Categories
Hindi poem

मैं

बिखरा हूँ मैं, लूटा हूँ मैं,
कुछ इस क़दर टूटा हूँ मै,
सुख गए हैं आँखें मेरी,
कुछ इस तरह रोया हूँ मैं।

खोया हूँ मैं, भटका हूँ मैं,
कुछ इस क़दर तन्हा हूँ मैं,
लहू-लहू है दिल मेरा,
कुछ इस तरह गिरा हूँ मैं।

खामोश हूँ मैं, सन्न हूँ मैं,
कुछ इस क़दर सबसे बेमन हूँ मैं,
कोई नही है साथ मेरे,
कुछ इस तरह सबको चुभा हूँ मैं।

खोखला हूँ मैं, खाली हूँ मैं,
कुछ इस कदर खर्च हूँ मैं,
मेरा मुझमे कुछ भी ना रहा,
कुछ इस तरह बिका हूँ मैं।

#satru_the_enemy

#bahut_dard_hai_zamane_me

Categories
Hindi poem

दर्द

दर्द में हूँ, कोई तो दवा कर दे।
नाराज़ है मुझसे खुदा मेरा,
कोई तो मेरे लिए दुआ कर दे।
थक गया हूँ अपने हालातों से,
कोई तो मेरी मुश्किलें आसान कर दे।
बहुत बोझ है इन कंधो में,
कोई तो ज़िम्मेदारियों से जुदा कर दे।
कोई सुन पाता नहीं मेरी चीखों को,
कोई तो मुझे अब बेजुबाँ कर दे।
कोई दर्द अब महसूस ना हो पाए,
कोई तो मुझे अब बेजान कर दे।
अब चाह नहीं बची और जीने की,
इस कैद भरी ज़िन्दगी से,
कोई तो रिहा कर दे।

#satru_the_enemy

Categories
Shayri

गुलाब

मेरे इश्क़ को तुम कुचल दो,
ये कोई गुलाब तो नही है।

तेरे जाने के बाद कोई और ना मिले,
किस्मत इतनी खराब तो नही है।

की उतर गया तेरी आँखों का नशा,
कहीं ये कोई सस्ती शराब तो नही है।

मैं सोच में पड़ जाता हूँ जब भी तुम्हे देखता हूँ,
की कहीं ये कोई बुरा ख्वाब तो नही है।

#satru_the_enemy

Categories
Hindi poem

रातें

कुछ रातें इन्तज़ार में बीतीं
कुछ रातें इज़हार में बीतीं
कुछ रातें हम खामोश रहे,
कुछ रातें इनकार में बीतीं।

कुछ रातें हमने मनाया उसे
कुछ रातें उसने सताया मुझे
कुछ रातें हम खामोश रहे
कुछ रातें उसने रुलाया मुझे।

कुछ रातें हम साथ थे
कुछ रातें हम दूर थे
कुछ रातें तन्हा थीं बहुत
इस क़दर हम मजबूर थे।

कुछ रातें सिर्फ रात ना थी
उन रातों में वो बात ना थी
कुछ रातें वो रात ना आई
रात आई पर वो ना आई।

फिर एक दिन वो रात आई
जिस रात के बाद
फिर कभी ना वो रात आई
फिर कभी ना वो रात आई।

#Satru_the_enemy

Categories
English poems

She is a dark skinned girl

She?
She is a dark skinned girl
With smile as bright as the sun,
With a tender heart that cries for the pain of her friend.

She?
She is just an another girl whom you see in the neighbour,
And to fullfil her dreams she do all the labour.

She?
She is a dark skinned girl
Who wears her confidence in the crowd,
She is intelligent but she
Doesn’t cry out loud.

She?
She is a girl who wears those normal spectacles,
And there is no problem that she can’t tackle.

She?
She has a lot of stories
That I like to here,
And maybe I would listen to her secrets that she doesn’t share.

She?
She smiles her brightest when she teaches something or when she is telling a funny story.

She?
She is a dark skinned girl
With a soul that I believe is pure,
Who never wish bad for anyone, that i am sure.

She?
She is a girl,
Beautiful and sweet
And I am really happy
That destiny planned our meet.

She?
She is a girl who do not blindly follow the trend
And that beautiful girl,
That girl is my friend.

#Satru – the enemy

Categories
Shayri

Shayri 1

मैं अपनी हर शायरी,

तेरे ही नाम लिखता हूँ।

बस अपनी शायरी में,

तेरा नाम नही लिखत।

#satru_the_enemy

#satru_the_enemy

Categories
English poems

A Road Called Life

We met a few months ago in the road called life,
I imagined her then and there to be my future wife.

The calmness she had could be seen from her eyes
Before her, I have never seen such a beautiful sight.

I was divining deep in the emotion called love,
In the midst of the storm, she was peace like a dove.

She was soothing my soul with her  calming Words.
And I was begging, her from all the almighty Lords.

She came like a wind, and blown me away.
she even understand my words Which i didn’t say.

She was everything I ever dreamed of,
And I danced every night at the roof top.

We met a few months ago in the road called life,
I imagined her then and there to be my future wife.

Things were going smooth until she found someone,
And I was again all by myself, the forgotten one.

She started ignoring my call and giving me replies,
She said excuses but, I could see through her lies.

I left the things as they were
And once more, for me life wasn’t fair.

I distanced myself from all her memory.
And It took more then a century.

As I started befriending my solitude,
She came back with a sorry attitude.

#satru_the_enemy

Categories
Uncategorized

तन्हाई

बहुत दूर हूँ तेरी परछाई से,    
आके बचा ले मुझे इस तन्हाई से। 
कैद हुआ हूँ खुद में ही, 
आके तू मुझे अब रिहाई दे।

कसमकश है ये कैसी,     
जूझ रहा हूँ मैं खुद से ही,  
मुझपे तू कुछ तो मेहरबानी कर, 
बातें कुछ तो रूहानी कर,

सब खत्म सा है तेरे जाने से,         
टूट गया हूँ तेरे आजमाने से,
अब इतना भी जुल्म ना कर, 
बेवजह मुझे बदनाम ना कर,

Still incomplete. Any suggestion??

   #satru_the_enemy

Categories
Uncategorized

Empty

अभी कुछ बिखरा सा हूँ,
जाने क्यों अधमरा सा हूँ,
बरसों से हूँ अकेला चला,
फिर आज क्यों अधूरा सा हूँ।

अभी कुछ टूटा सा हूँ,
जाने क्यों छूटा सा हूँ,
बरसों से हूँ खाली  मैं,
फिर आज क्यों लुटा सा हूँ।

Categories
Uncategorized

उलझन

उलझा रहा ज़िंदगी की उलझनों में कुछ इस तरह
की जब सुलझा तो सुलझा जैसा कुछ ना रहा।
वो कहती थी हमसे कि इश्क़ का दरिया हूँ मैं,
उसके जाने के बाद मुझमें प्यार का एक कतरा ना रहा।

Bus kehne ki baatein